Prarabdh

Part 17 of total 17 stories in the book Mansarovar Part 7.
  

लाला जीवनदास को मृत्युशय्या पर पड़े 6 मास हो गये हैं। अवस्था दिनोंदिन शोचनीय होती जाती है। चिकित्सा पर उन्हें अब जरा भी विश्वास नहीं रहा। केवल प्रारब्ध का ही भरोसा है। कोई हितैषी वैद्य या डॉक्टर का नाम लेता है तो मुँह फेर लेते हैं। उन्हें जीवन की अब कोई आशा नहीं है। यहाँ तक कि अब उन्हें अपनी बीमारी के जिक्र से भी घृणा होती है। एक क्षण के लिए भूल जाना चाहते हैं कि मैं काल के मुख में हूँ।

Mahatirth

Part 16 of total 17 stories in the book Mansarovar Part 7.
  

मुंशी इंद्रमणि की आमदनी कम थी और खर्च ज्यादा। अपने बच्चे के लिए दाई का खर्च न उठा सकते थे। लेकिन एक तो बच्चे की सेवा-शुश्रूषा की फ़िक्र और दूसरे अपने बराबरवालों से हेठे बन कर रहने का अपमान इस खर्च को सहने पर मजबूर करता था। बच्चा दाई को बहुत चाहता था, हरदम उसके गले का हार बना रहता था। इसलिए दाई और भी जरूरी मालूम होती थी, पर शायद सबसे बड़ा कारण यह था कि वह मुरौवत के वश दाई को जवाब देने का साहस नहीं कर सकते थे।

Steam Tactics

Part 6 of total 6 stories in the book Traffics and Discoveries.
  

I caught sight of their faces as we came up behind the cart in the narrow Sussex lane; but though it was not eleven o’clock, they were both asleep.

That the carrier was on the wrong side of the road made no difference to his language when I rang my bell. He said aloud of motor-cars, and specially of steam ones, all the things which I had read in the faces of superior coachmen.

The Comprehension Of Private Copper

Part 5 of total 6 stories in the book Traffics and Discoveries.
  

Private Copper’s father was a Southdown shepherd; in early youth Copper had studied under him. Five years’ army service had somewhat blunted Private Copper’s pastoral instincts, but it occurred to him as a memory of the Chalk that sheep, or in this case buck, do not move towards one across turf, or in this case, the Colesberg kopjes unless a stranger, or in this case an enemy, is in the neighbourhood.

Their Lawful Occasions

Part 4 of total 6 stories in the book Traffics and Discoveries.
  

… “And a security for such as pass on the seas upon
their lawful occasions.”–_Navy Prayer_.

Disregarding the inventions of the Marine Captain, whose other name is Gubbins, let a plain statement suffice.