Lankakand – Angad in front of Ravana

You are here:[getbreadcrumbs]

angad-ravana-lanka-ramayana-hindi-shortstoriescoin-image
Part 97 of total 114 stories in the book Ramayana in Hindi.
  
wp-content/uploads/2015/01/Ramayan.jpg
  1. Balkand – The Birth of Lord Rama
  2. Balkand – The Coming of Maharshi Vishwamitra
  3. Balkand – The Ashram of Kamdev
  4. Balkand – The Slaying of Tadka
  5. Balkand – Rama Gets Divya Ashtra
  6. Balkand – The Ashram of Vishwamitra
  7. Balkand – The Slaying of Maarich
  8. Balkand – Dhanushya Yagna
  9. Balkand – The Story of River Ganga
  10. Balkand – Rama in Janakpuri
  11. Balkand – The Story of Ahalya
  12. Balkand – The Story of Rishi Vishwamitra
  13. Balkand – Trishanku’s Journey to the Heaven
  14. Balkand – Vishwamitra Gaining Bhrahmanatva
  15. Balkand – The Story of Pinaak
  16. Balkand – Sita Swayamvar Condition
  17. Balkand – The Breaking of Dhanushya by Rama
  18. Balkand – The Preparation in Ayodhya
  19. Balkand – Before the Merriage of Rama
  20. Balkand – The Merriage of Rama
  21. Balkand – The Welcome of Parshuram
  22. Balkand – Rajkumar’s Coming Back to Ayodhya
  23. Ayodhyakand – The Declaration of Rama’s Rajtilak
  24. Ayodhyakand – The Preparations for Rajtilak
  25. Ayodhyakand – Kaikeyi in Kopabhavan
  26. Ayodhyakand – Kaikeyi is Getting her Blessings
  27. Ayodhyakand – The Vanvas of Rama
  28. Ayodhyakand – Goodbye to Mata Kaushalya
  29. Ayodhyakand – The Anugrah of Sita and Lakshaman
  30. Ayodhyakand – Daan Before the Vanvas
  31. Ayodhyakand – Final Meeting With Dashrath
  32. Ayodhyakand – Beginning of Vanvas
  33. Ayodhyakand – At the Seashore of Tamsa
  34. Ayodhyakand – The Journey of Vanvas
  35. Ayodhyakand – Bhilraaj Gruh
  36. Ayodhyakand – Crossing the River Ganga
  37. Ayodhyakand – In the Ashram of Rishi Bhardhwaaj
  38. Ayodhyakand – The Journey to the Chitrakut
  39. Ayodhyakand – Rama in Chitrakut
  40. Ayodhyakand – Sumanta is Returning to Ayodhya
  41. Ayodhyakand – The Story of Shravankumar
  42. Ayodhyakand – The Death of King Dasharatha
  43. Ayodhyakand – The Return of Bharat and Shatrugna
  44. Ayodhyakand – The Last Procession of King Dasharatha
  45. Ayodhyakand – The Milaap of Ram and Bharat
  46. Ayodhyakand – The Return of Bharat to Ayodhya
  47. Aranyakand – The Slaying of Viradh in Dandak Van
  48. Aranyakand – Maharshi Sharbhang
  49. Aranyakand – The Doubt of Sita
  50. Aranyakand – The Ashram of Agatsya
  51. Aranyakand – The Ashram in Panchvati
  52. Aranyakand – Shurpankha
  53. Aranyakand – The War with the Khar and Dushan
  54. Aranyakand – The Slaying of Khar and Dushan
  55. Aranyakand – The Message to the Ravana
  56. Aranyakand – Shurpankha Meets With Ravana
  57. Aranyakand – The Golden Dear
  58. Aranyakand – The Abduction of Sita – Maharshi Valmiki
  59. Aranyakand – The Conversation between Ravana and Sita
  60. Aranyakand – The Ram Returns
  61. Aranyakand – The Death of Jatayu
  62. Aranyakand – The Slaying of Kabandha
  63. Aranyakand – Ram In The Ashram of Shabari
  64. Kishkindhakand – The Meeting of Ram with Hanuman in Pampasar
  65. Kishkindhakand – The Friendship of Ram and Sugriv
  66. Kishkindhakand – The Conversation between Ram and Sugriv
  67. Kishkindhakand – The Slaying of Baali
  68. Kishkindhakand – The Conversation between Ram and Baali
  69. Kishkindhakand – Taara Ka Vilaap
  70. Kishkindhakand – Sugriv Ka Abhishek
  71. Kishkindhakand – The Conversation of Hanuman and Sugriv
  72. The Conversation Between Laxman and Sugriv
  73. Kishkindhakand – Sita Ki Khoj
  74. Kishkindhakand – Hanuman Receiving the Mudrika
  75. Kishkindhakand – Tapasvini Svayamprabha
  76. Kishkindhakand – The Inspiration to Hanuman
  77. Sundarkand – Hanuman Jumping of the Saagar
  78. Sundarkand – Hanuman Enters to the Lanka
  79. Sundarkand – Finding of Sita in Lanka
  80. Sundarkand – Hanuman in Ashokvatika
  81. Sundarkand – The Conversation between Ravan and Sita
  82. Sundarkand – Janaki in between the Daemons
  83. Sundarkand – Hanuman Meets Sita
  84. Sundarkand – Hanuman Gives Mudrika to Sita
  85. Sundarkand – The Conversation of Patience between Hanuman and Sita
  86. Sundarkand – Hanuman Showing His Great Avatar to Sita
  87. Sundarkand – Hanuman Fights with the Daemons
  88. Sundarkand – Hanuman Fights with the Meghnad
  89. Sundarkand – Hanuman in front of Ravana
  90. Sundarkand – Lanka Dahan by Hanuman
  91. Lankakand – How to Cross the Sea?
  92. Lankakand – The Army of Monkeys
  93. Lankakand – The Discussion of Daemons in Lanka
  94. Lankakand – Ravana Kicks Out Vibhishana
  95. Lankakand – The Construction of Ram Setu
  96. Lankakand – The Fraud With Sita
  97. Lankakand – Angad in front of Ravana
  98. Lankakand – Vibhishan in front of Rama
  99. Lankakand – Ram Laksham in Bond
  100. Lankakand – The Slaying of Dhumraksh and Vajradanshta
  101. Lankakand – The Slaying of Akampan
  102. Lankakand – The Slaying of Prahast
  103. Lankakand – The Conversations between Ravana and Kumbhkarna
  104. Lankakand – The Slaying of Kumbhkarna
  105. Lankakand – The Slaying of Trishira, Atikay and Others
  106. Lankakand – The Slaying of Mayasita
  107. Lankakand – The War Between Lakshman and Meghnad
  108. Lankakand – The Slaying of Meghnad
  109. Lankakand – The War Continued
  110. Lankakand – Lakshman Lost His Sense
  111. Lankakand – The Slaying of Ravana
  112. Lankakand – Weeping of Mandodary and Ravana’s Last Procession
  113. Lankakand – Rajyabhishek of Vibhishan and Return of Sita
  114. Lankakand – The Fire Exam of Sita

सुवेल पर्वत पर श्री रामचन्द्र जी ने लंका का निरीक्षण करने के पश्चात् वे अपने सेनपतियों, विभीषण तथा वानरों आदि को लेकर लंका के मुख्य द्वार के निकट पहुँचे। यही लंका का सबसे विशाल मुख्य द्वार था। उन्होंने वहाँ पर एक दर्भेद्य व्यूह की रचना की। उस विशाल द्वार पर लक्ष्मण सहित राम धनुष धारण कर खड़े हो गये। पूर्व द्वार पर सेनापति नल, नील, मैंद तथा द्विविद असंख्य पराक्रमी वीरों के साथ खड़े हुये। दक्षिण द्वार पर अंगद, ऋषभ, गज, गवय तथा गवाक्ष नामक तेजस्वी सेनापति एकत्रित हुये। पश्चिम द्वार से आक्रमण का भार हनुमान, प्रजंघ, तरस आदि अद्वतीय पराक्रमी सेनानायकों को सौंपा गया। उन सबके मध्य में एक दुर्भेद्य व्यूह बनाकर वानरराज सुग्रीव चुने हुये वानरों के साथ खड़े हो गये। रामचन्द्र और सुग्रीव दोनों के बीच में विशाल सेना लेकर जाम्बवन्त तथा सुषेण खड़े हुये।

इस प्रकार की व्यूह रचना करके राम ने राजधर्म का विचार करते हुए वालिपुत्र अंगद को बुला कर बोले, “सौम्य! कपिवर! तुम तेजस्वी, बलवान तथा वाक्-पटु हो। इस लिये तुम रावण से जाकर कहो कि तुम चोरों की भाँति एकान्त से सीता को चुरा लाये थे। अब रणभूमि में आकर अपना रणकौशल दिखाओ। हम तुम्हें एक अवसर और देते हैं। यदि तुम सीता को लेकर दाँतों में तृण दबाकर हमसे अपने अपराध के लिये क्षमायाचना करोगे तो हम तुम्हें अब भी क्षमा कर देंगे, अन्यथा कल प्रातःकाल से युद्ध होगा जिसमें तुम समस्त राक्षसों के साथ मारे जाओगे।”

Page 2

रामचन्द्र की आज्ञा पाकर वालिसुत अंगद छलांग लगाकर लंका के परकोटे को पार कर रावण के दरबार में पहुँचे। उन्होंने कहा, “मैं वालि का पुत्र और श्री रामचन्द्र जी का दूत अंगद हूँ। श्री रामचन्द्र जी ने कहलाया है किस तुमने सीता को चुरा कर जो जघन्य अपराध किया है, उसके लिये मैं परिवार सहित तुम्हारा और तुम्हारे वंश का नाश करूँगा। यदि अब भी तुम अपनी कुशल चाहते हो तो सीता को आगे करके मुख में तृण रखकर क्षमायाचना करो, तुमको क्षमा कर दिया जायेगा तुम देवता, दानवों, यक्ष, गन्धर्व सबके शत्रु हो, इसलिये तुम्हारा विनाश करना ही श्रेयस्कर है। मैं श्री रामचन्द्र जी की ओर से तुम्हें एक बार फिर समझाता हूँ, यदि तुमने उनसे क्षमा नहीं माँगी तो तुम मारे जाओगे और लंका का राज्य तथा ऐश्वर्य तुम्हारा भाई विभीषण भोगेगा।”

अंगद के कठोर वचन सुनकर क्रुद्ध हो रावण ने अपने सैनिकों को आज्ञा दी, “इस दुर्बुद्धि वानर को पकड़ कर मौत के घाट उतार दो।”

रावण की आज्ञा पाते ही चार राक्षसों ने अंगद को पकड़ लिया। पकड़े जाने पर उन्होंने एक धक्का देकर उन्हें भूमि पर गिरा दिया ओर स्वयं छलांग लगाकर छत पर पहुँच गये। क्रोध से जब उन्होंने छत पर अपना पैर पटका तो एक ही आघात से छत ध्वस्त हो कर नीचे आ गिरी। फिर विजय गर्जना करते हुये अपने कटक को लौट गये।

Page 3

इसी समय गुप्तचरों ने आकर रावण को सूचना दी कि वानरों ने लंका को चारों ओर से घेर लिया है। उसने स्वयं छत पर चढ़कर चारों ओर वानरों की विशाल सेना को व्यूह बनाये देखा तो एक बार उसका हृदय भी भय और आशंका व्याप्त हो उठा।

उधर अंगद के पहुँचने के पश्चात् रामचन्द्र जी ने अपनी सेना को लंका का विध्वंस करने तथा राक्षसों का वध करने की आज्ञा दी। आज्ञा पाते ही वानर सेना बड़े-बड़े वृक्षों एवं शिलाखण्डों को लेकर लंका पर चढ़ दौड़ी। वे वृक्षों, पत्थरों, लात-घूसों से परकोटे और उसके द्वारों को तोड़ने और विशाल खाई को पाटने लगे। थोड़ी ही देर में उन्होंने भयंकर आघातों से नगर के चारों फाटक चूर-चूर कर दिया। परकोटे में बड़े-बड़े छेद हो गये। जब पुरी के द्वार और परकोटे नष्ट-भ्रष्ट हो गये तो रावण ने राक्षस योद्धाओं को बाहर निकल कर युद्ध करने का आदेश दिया। आदेश मिलते ही राक्षस सेना हाथियों, घोड़ों, रथों आदि पर सवार होकर अपनी पैदल सेना के साथ पूरे वेग से वानरों पर टूट पड़ी। दोनों ओर के सैनिक अपने प्राणों का मोह त्याग कर भयानक युद्ध करने लगे। हाथी, घोड़ों की चिंघाड़ तथा हिनहिनाहट से, तलवारों की झंकार और सैनिकों के ललकार भरे जयजयकार से सारा वातावरण गूँज उठा। नाना प्रकार के वाद्यवृनद तथा रणभेरियाँ योद्धाओं के उत्साह को द्विगुणित कर रही थीं। वानरों का उत्साह राक्षसों से कई गुणा अधिक था। उनके वृक्षों, शिलाओं, नखों तथा दाँतों के प्रहार ने राक्षसों की सेना में भयंकर मार-काट मचा दी अस्ख्य राक्षस मर-मर कर गिरने लगे। समुद्र तट से लंका के द्वार तक भूमि मृत एवं घयल सैनिकों से पटी दिखाई देती थी।

Page 4

 

Lankakand – Angad in front of Ravana – Ramayana in Hindi

Navigation of this bookPrevious: Lankakand – The Fraud With SitaLankakand – Vibhishan in front of Rama :Next